Darad Uthela Bhojpuri lyrics | Khesari Lal Yadav | Shilpi Raj

Darad Uthela Bhojpuri lyrics | Khesari Lal Yadav | Shilpi Raj
  • Song : Darad Uthela
  • Singer : Khesari Lal Yadav, Shilpi Raj
  • Lyrics : Prakash Pardeshi

दरद ! उठे !
कुछु कईबो ना कईनी डेराये लगलु
अपना मरद से काहे घबड़ाये लगलु
ऐ जान बोल ना !

कुछु कईबो ना कईनी डेराये लगलु
अपना मरद से काहे घबड़ाये लगलु
देलु दिया बुताई काहे क देलु अन्हरिया
अन्हरिया !

सुन !
दरद उठे ऐ दादा कमर के भितरिया भितरिया
दरद उठे ऐ दादा कमर के भितरिया
दवाई लिया दी का ?
उठे ऐ दादा ! कमर के भितरिया !

अब ना आईब पिया कबो तोहरा बात में
देल सिखाई तू त पहिले ही रात में
काहे उदास कई लेलु तू मन हो
तू हउ रानी हमार दिल के धड़कन हो
सब झूठ बोलतानी रउवा !

अच्छा !

दिल के धड़कन हो !
ऐ ! अब ना आईब पिया कबो तोहरा बात में
देल सिखाई तू त पहिले ही रात में
हां काहे उदास कई लेलु तू मन हो
तू हउ रानी हमार दिल के धड़कन हो
लागेलु खूबसूरत सड़िया

अच्छा !
पेन्हेलु जब करिया
करिया !
ऐ ! दरद उठे ऐ दादा कमर के भितरिया भितरिया
दरद उठे ऐ दादा कमर के भितरिया
दरद ! उठे !

कोमल बदन हमार रुई नियन गाल हो
कईले प्रकाश बाड़ तू अईसन हाल हो
सोनू आ संजय के कहला में आके
कईनी हम गलती रानी तोहके आजमा के
एहसास हो गईल ?

ह !
तोहके आजमा के !
ऐ ! कोमल बदन हमार रुई नियन गाल हो
कईले प्रकाश बाड़ तू अईसन हाल हो
सोनू आ संजय के कहला में आके
कईनी हम गलती रानी तोहके आजमा के
देखी माजा दुरे से लेवे आर्या खेसरिया
खेसरिया !

सुन !
बोल !
दरद उठे ऐ दादा कमर के भितरिया भितरिया
हट ..!
दरद उठे ऐ दादा कमर के भितरिया
चोर धईले बा का रे ?