Ishq Di Baajiyaan

इश्क़ दी बाजियां

कभी उसे नूर नूर कहता हूँ, कभी मैं हूर हूर कहता हूँ
कभी उसे नूर नूर कहता हूँ, कभी मैं हूर हूर कहता हूँ
इश्क़ में चूर चूर रहता हूँ, दूर न जा ना जा

[contact-form][contact-field label="Name" type="name" required="true" /][contact-field label="Email" type="email" required="true" /][contact-field label="Website" type="url" /][contact-field label="Message" type="textarea" /][/contact-form]
Dil Taan Pagal

Dil Taan Pagal | दिल ते पागल है

Dil ta dil hai, dil da ki hai, Dil ta dil hai, o dil da ki
Ainnu chhed chhed ke, hai milda ki hai

दिल ता दिल है, दिल दे के है
दिल ता दिल है, ओ दिल दा की
ऐनु छेड छेड़े के, है सौम्या की
(दिल ते पागल है
करो कादियां रो के चुप कर जौ) - ३
जिते साड़ी दुनीया छडी
तेरे बिन भी सर जाऊ
(दिल ते पागल है
करो कादियां रो के चुप कर जौ) - २
(दिल ना दिल से कदे मिलिया ही नहीं
प्यार ते सी जिस्मनी
ततियं थांदियं सौहं लेके
तूर गे दिल दे जानी) - २
कोइ रूह दे सठि नाहि
कोइ रूह दे सठि नाहि
एह नबज एक ई दिन दुन जउ
दिल ता पागल है
करो कादियां रो के चुप कर जौ
(हर वेले कीन्ह बर बाजंदा
अशन दी शहनै
एक दिन तेनु साद देवेगी
यदान दी गार्माय) - २
की पात सी मन्नु है - २
हिज्र द बैदाल वर जौ
दिल ता पागल है
करो कादियां रो के चुप कर जौ
(छद वे मन गम ता हंडे
जिंदगी दा सरमाया